fazilate muharram - Newartby

This is one of the best website for health article free and some new offer.

Hot

Post Top Ad

Wednesday, 11 September 2019

fazilate muharram

मुहर्रम का मतलब होता है " काविले एहतेराम " यानी इस महीने के एहतेराम में हर तरह के गुनाह , रस्म व रिवाज और बिदआत व खुराफात से बचने का ख़ास एहतेमाम करना चाहिए । हजरत मुफ्ती मुहम्मद शफ़ी साहब रह . फरमाते हैं : “ तमाम अंबिया अलै . की शरीअतें इस बात पर मुत्तफ़िक हैं के इन चार महीनों रजब जी - कअदह , जिल हिज्जह और मुहर्रम ) में हर इबादत सवाब ज़्यादा होता है और इनमें कोई गुनाह करे तो उसका वबाल और अज़ाब भी ज़्यादा होता है । ( मआरिफुल कुरमान )


गुनाहों , रस्म व रिवाज और विदआत व खुराफात से बचने का आसान तरीक़ा ये है के जो कुछ करना चाहते हों : पहले उलमा से पूछ लें . . . . लोगों को देखकर या उनके कहने पर ना करें । इस मुक़द्दस महीने में गुनाहों से बचते हवे करने के दो काम हैं : पहला काम : नफ्ली रोजे रखना । रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने फ़रमाया : अफजल तरीन रोजे रमजान के बाद माहे मुहर्रम के रोज़े हैं । ( मुस्लिम ) 
एक रिवायत में है ; जो शख्स मुहर्रम के महीने में एक रोज़ा रखेगा उसको हर रोज़े के बदले में तीस रोजों का सवाब मिलेगा । ( तबरानी ) 
नीज़ आशोरा यानी १० मुहर्रम को रोज़ा रखने की ख़ास फ़ज़ीलत हदीस में आयी है । चुनांचे रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का इर्शाद है : मुझे उम्मीद है के आशोरा के दिन का ( १० मुहर्रम )
 रोजा गुजिश्ता एक साल के गुनाहों का कफ्फारा हो जाएगा । ( मुस्लिम )

नोट : आशोरा के सिर्फ एक रोज़े पर किफ़ायत करना मकरूह ( तन्ज़ीही )

है ; लेकिन सवाब उसका भी मिलेगा ।

 इसलिए आशोरा के रोजे के साथ एक दिन पहले या एक दिन बाद में भी रोज़ा रख लेना चाहिए । नोट : नफ्ली या आशोरा का रोज़ा रखें तो सवाल्व की बात है लेकिन अगर कोई शख्स नफ्ली रोजों का एहतेमाम ना करता हो तो उसको हरगिज़ हक़ीर ना समझे ।

दूसरा काम : १० मुहर्रम को घरवालों पर खाने पीने में वुसअत करना यानी रोज़ाना के खाने से अच्छा खाना खिलाना ।

 हदीस में है ; जो शख्स आशोरा के दिन अपने अहल व अयाल पर खाने पीने के सिलसिले में बुसअत करेगा तो अल्लाह तआला पूरे साल उसके रिज्क में वुसअत व बरकत अता फरमाएंगे । मुहर्रम के बारे में चंद क़ाबिले तवज्जोह बातें 

1 ) इस महीने को मनहूस और गम का महीना ना समझें , ये तो बरकत वाला महीना है ।

 2 ) इस महीने में शादी बियाह करने में कोई हरज नहीं बल्के इसमें शादी करने से और बरकत होगी । बरकत हासिल करने के लिए शादी सादगी से शरीअत के मताबिक करनी चाहिए । चाहे किसी भी महीने में की जाए ।

 3 ) शरीअत में जिनके लिए जैसी ज़ीनत करना जाएज़ है , मुहर्रम में भी वैसी ही जाएज़ है । 

4 ) माहे मुहर्रम की निस्बत पर शरबत और दूध वगैरा की सबीलें लगाना मना है । 

5 ) मुहर्रम की निस्बत पर खिचड़ा या हलवा बनाना दुरुस्त नहीं है ।

6 ) ताजिया उठाना या उसमें मदद करना बिल्कुल मना है । 

7 ) मर्सियाख्वानी करना सहीह नहीं है । 

8 ) मुहर्रम की निस्बत पर सोग मनाना दुरुस्त नहीं है । अल्लाह तआला हम मुसलमानों को इस मोहतरम महीने की नाक़द्री से बचाए और अपने पसंदीदा कामों की तौफीक़ बख्शे । आमीन


No comments:

Post a comment